भारत ने इस्लामिक देशों पर किया पलटवार| India Counterattack on Islamic Countries.

असम की घटना को लेकर इस्लामिक देशों के संगठन ऑर्गेनाइजेशन ऑफ इस्लामिक ऑपरेशन यानी कि ओआई सी ने भारत की निंदा की थी|

अब इस पर भारत सरकार का बयान आया हैं और उसने ओआईसी की आलोचना की है|

शुक्रवार रात को भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने एक सवाल के जवाब में ये बयान जारी किया हैं|

भारतीय विदेश मंत्रालय के बयान मे कहा गया है कि भारत बेहद खेदपूर्ण तरीके से यह बताना चाहता हैं|

कि ओआईसी ने भारत के आंतरिक मामले परपर एक बार फिर टिप्पणी की है| जिसमें उसने भारत के राज्य असम की एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना को लेकर तथ्यात्मक रूप से गलत और भ्रामक बयान जारी किया है|

इसके साथ यह भी कहा गया है कि भारत इस संबंध में कानूनी करवाई कर रहा है| दोस्तो बयान में ये लिखा गया है कि यहां यह दोहराया जाता है ओ आई सी को भारत के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने का कोई अधिकार नहीं है|

और उसे अपने स्वार्थ के लिए निजी कार्यों में इस्तेमाल होने नही चाहिए|

इसके बाद बयान की समाप्ति के बाद भारत ने ओ आई सी को चेतावनी देते हुए कहा है कि भारत सरकार सभी निरादार बयानों को खारिज करती है और आशा करती हैं| की इस तरह के बयान भविष्य में नही दिये जायेंगे|

आइए जान लेते हैं कि आखिर ओआईसी ने  कहा क्या था-

मुस्लिम देशों के संगठन आईसी ने भारत के पूर्वोत्तर राज्य असम दरंग जिले में पिछले महीने सरकारी जमीन से ‘अतिक्रमण हटाओ अभियान’ के तहत सैकड़ो मुस्लिम परिवार को कथित तौर पर बेदखल करने के करने के दौरान पुलिस कार्रवाई व्यवस्थागत हिंसा और उत्पीड़न कहा था|

इस कार्रवाई के दौरान दो स्थानीय मुसलमानो की मौत हुई थी|

इस टाइम आया है वीडियो सामने आया था बीती रात और गुरुवार ट्विटर पर जारी बयान में ओआईसी ने मीडिया मीडिया कवरेज निंदा भी की थी और इसे बड़ा ही शर्मनाक दृश्य बताते हुए भारत सरकार से जिम्मेदारी भरे बर्ताव की अपील की थी|

ओआईसी ने भारत सरकार से मुसलमान को सुरक्षा कराने और उनके सभी धार्मिक और  मौलिक अधिकारो का सम्मान करने की अपील की|

बयान में यह भी कहा गया था कि किसी भी मुद्दे को सुलझाने का सही तरीका हैं आपस मे बातचीत हैं|