अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस| International (National, World) Tea Day 21 May in Hindi.

दोस्तों आज देशभर में चाय इतनी प्रसिद्ध हैं कि पूछीये ही मत?

भारत में इंसान एक वक्त का खाना खाना भूल सकता हैं,

लेकिन सुबह और शाम की चाय की प्याली लेना नही भूल सकता है|
‘ अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस ‘ हर साल 21 मई को बड़ी धूमधाम से मनाया जाता हैं|

यह दिन चाय और चाय प्रेमियों को समर्पित हैं| इस दिन को सेलिब्रेट करे उद्देश्य दुनिया भर में चाय के व्यापार पर और चाय बागानों में श्रमिकों और उत्पादकों पर वैश्विक ध्यान आकर्षित कराना है|

दोस्तों हमारा आज का अर्टिकल ‘अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस ‘ पर हैं- हम आपको ये बतायेंगे की भारत में चाय का आगमन कब हुआ और चाय के प्रकार? अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस| Happy International ( National, World ) Tea Day in Hindi.

भारत में चाय का आगमन कब हुआ था?

दोस्तों भारत में चाय के आगमन को लेकर कहा जाता हैं कि 1824 में बर्मा या म्यांमार और असम की सीमांत पहाड़ियों पर चाय के पौधे पाए गए थे|

अंग्रेज़ों ने 1836 में भारत में चाय का उत्पादन किया था| दोस्तों पहले खेती के लिए चीन से बीज मंगवाए जाते थे|
लेकिन बाद में असम चाय के बीजों का इस्तेमाल किया जाने लगा| भारत में चाय का उत्पादन मूल रूप से ब्रिटेन के बाजारों में चाय की डिमांड को पूरा करने के लिए किया गया था|

आज भारत में चाय सबसे लोकप्रिय और सस्ता पेय पदार्थ है|

चाय से मिलने वाले स्वास्थ्य लाभ-

चाय में कई स्वास्थ्य लाभ भी पाए गए हैं, दुनिया भर में किए गए कई अध्ययनों में इस बात की पुष्टि भी हुई है|

पोषक रूप से चाय में प्रोटीन, पॉलीसेकेराइड, पॉलीफेनोल, खनिज और ट्रेस तत्व, अमीनो और कार्बनिक एसिड, लिग्निन, और मिथाइलक्सैन्थिन (कैफीन, थियोफिलाइन, और थियोब्रोमाइन) पाए जाते हैं|

चाय के स्वास्थ्य लाभ फाइटोकेमिकल्स से आते हैं जो हमारे शरीर में शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट के रूप में कार्य करते हैं|

चाय के प्रकार और उनसे मिलने वाली स्वास्थ्य को लाभ-
1. काली चाय
2. ग्रीन टी
3. पीली चाय
4. सफेद चाय

1. काली चाय-

काली चाय की पत्तिया,प्राकृतिक एंजाइमों द्वारा ऑक्सीकरण के कारण पूर्ण द्वारा निर्मित होती है|  इस बात के प्रमाण बढ़ते जा रहे हैं|

कि काली चाय में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट विशेष रूप से महिलाओं में धमनियों में रुकावट को कम कर सकते हैं और दिल के दौरे के जोखिम को कम करने में भी फायदेमंद हो सकते हैं|

2. ग्रीन टी-

दोस्तों ग्रीन टी का नाम तो आपने सुना ही होगा| ग्रीन टी सबसे फेमस और एशिया में पसंद की जाने वाली चायों में से एक हैं|

इसे वजन कंट्रोल करने में भी काफी कारगर माना जाता है| सभी चायों में से ग्रीन टी कैटेचिन और एपिक्टिंस का सबसे अच्छा स्रोत है|

ग्रीन टी शायद सभी चायों में से सबसे अधिक रिसर्च भी की जाती है और इसकी वजह यह है कि इसमे सबसे ज्यादा स्वास्थ्य गुण होते हैं|

यह स्तन, बृहदान्त्र, अंडाशय, गले, फेफड़े, पेट और प्रोस्टेट के कैंसर से बचाता है| 11 साल तक 40,000 जापानी पर किए गए एक अध्ययन में पाया गया था कि जिन लोगों ने कम से कम 5 कप ग्री टी पी थी उनमें हृदय संबंधी बीमारियों से मरने का जोखिम काफी कम था|

3. पीली चाय-

पीली चाय में मौजूद एंटीऑक्सिडेंट्स स्किन की हेल्थ में सुझार करते हैं और यंगर लुक देते हैं| दोस्तों इसके अलावा भी पीली चाय स्वास्थ्य के काफी फायदेमंद हैं|

4. व्हाइट टी-

व्हाइट टी शुद्ध और सभी चायों में सबसे कम प्रोसेस्ड होती है| व्हाइट टी में अन्य चाय की तुलना में कैटेचिन और पॉलीफेनोल ज्यादा मात्रा में होता है,

जिसका अर्थ है कि इसमें शक्तिशाली एंटी इंफ्लॉमेटरी और एंटी-ऑक्सीडेंट गुण भरपूर मात्रा में होते हैं| एंटीऑक्सिडेंट, ऑक्सीडेटिव तनाव को कम करते हैं और हाइपरलिपिडिमिया पर सकारात्मक प्रभाव डालते हैं|

दोस्तों, ‘ आपको हमारा यह आर्टिकल अंतर्राष्ट्रीय चाय दिवस| Happy International ( National, World ) Tea Day in Hindi. कैसा लगा? आप हमें कमेंट करके बताए और हमारे इस आर्टिकल को शेयर और लाइक करना ना भूले|

Facebook – Click Here

Twitter – Click Here  

Instagram – Click Here

Thanks
 Sanjana Singh