8 दिसंबर भारत बंद किसानों का विरोध प्रदर्शन| 8 December bharat bandh by farmers in Hindi.

कृषि कानून के खिलाफ पंजाब के किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी हैं| दिल्ली हरियाणा को जोड़ने वाली सिंधु बॉर्डर पर हजारों की तादाद में किसान धरना प्रदर्शन कर रहे हैं| किसान संगठनों ने 8 दिसंबर यानी मंगलवार को भारत बंद ऐलान किया हैं|
दोस्तों, जैसा कि आप सभी जानते हैं कि सरकार और किसानों के बीच में पांच दौर की बात हो चुकी हैं लेकिन अभी तक कोई हल नहीं निकला हैं|

केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों के आंदोलन का आज 12वां दिन हैं| हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारी किसान दिल्ली को पड़ोसी राज्यों से जोड़ने वाली कई सड़कों पर डटे हुए हैं|
अब दोनों पक्ष छठे दौर की बातचीत के लिए बुधवार, 9 दिसंबर को मुलाक़ात करेंगे| इससे पहले किसानों ने मंगलवार, 8 दिसंबर को ‘भारत बंद’ का आह्वान किया हैं|

हरियाणा-पंजाब के अलावा यूपी, दिल्ली, ओडिशा, उत्तराखंड, प. बंगाल, एमपी, राजस्थान व तमिलनाडु के किसानों ने भी समर्थन किया हैं|
टूरिस्ट ट्रांसपोर्टर एसोसिएशन व दिल्ली गुड्स ट्रांसपोर्ट्स एसोसिएशन ने भी बंद का समर्थन किया| राजधानी दिल्ली में मंगलवार को आम लोगों को टैक्सी और ऑटो लेने में परेशानी हो सकती है, क्योंकि कई यूनियनों ने भारत बंद का समर्थन किया हैं|
दिल्ली टैक्सी टूरिस्ट ट्रांसपोर्टर्स एसोसिएशन के प्रमुख संजय सम्राट के मुताबिक, उनके समेत कुछ अन्य टैक्सी संगठन आठ दिसंबर को भारत बंद में भागीदारी करेंगे और काम बंद रखेंगे|

भारत बंद होने पर इन पार्टियों का समर्थन हैं-

दोस्तों, किसान की ओर से बुलाए गए भारत बंद होने पर कॉंग्रेस समाजवादी पार्टी, पीएजीडी, एसीपी, सीपीआई, सीपीएम, सीपीआई (एलएल), आरएसपी, आरजेडी, डीएमके और एआईएफबी ने बयान जारी किया हैं|
इस के साथ ही राजनीतिक दलों ने किसानों के भारत बंद का सर्मथन किया हैं|
दोस्तों, इसके अलावा शिवसेना, जीएमएम, टीआरएस और आम आदमी पार्टी भी किसानों के पक्ष में खड़ी हैं|
इन सभी लोगों ने किसानों के भारत बंद में समर्थन किया हैं|

यूनियन बैंक का भी सर्मथन हैं किसानों को-

इसके अलावा कई यूनियन बैंक ने भी नए कृषि कानून के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों का समर्थन कर रहे हैं| यूनियन के सरकार से इस मुद्दे को जल्द से जल्द सुलझाने का आग्रह किया हैं|
ऑल इंडिया बैंक एंपलाइज एसोसिएशन (एआईबीईए) ने कहा है कि सरकार को आगे आकर देश और किसानों के हित में उनकी मांगों का समाधान करना चाहिए|

बता दें कि किसान तीन नए कानून-.

1. मूल्य उत्पादन और कृषि सेवा अधिनियम, 2020,
2. आवश्यक वस्तु (संशोधन) अधिनियम, 2020

3. किसानों के उत्पादन व्यापार और वाणिज्य (संवर्धन और सुविधा) अधिनियम, 2020 का विरोध कर रहे हैं|

वहीं किसानों ने जानकारी देते हुए कहा है कि 8 दिसंबर को सुबह से लेकर शाम तक भारत बंद रहेगा| दोपहर तीन बजे तक पूरे देश में चक्का जाम रहेगा| किसानों का कहना है कि इस दौरान इमेरजेंसी सेवाओं जैसे एंबुलेंस आदि को नहीं रोका जाएगा|

वहीं कृषि कानूनों को हटाने की मांग के कारण किसान पिछले कुछ दिनों से दिल्ली बॉर्डर पर डेरा डाले हुए हैं और अपनी मांगों पर अड़े हैं|
दोस्तों, इस बीच आठ दिसंबर को भारत बंद का ऐलान किया गया है. जिसका कई राजनीतिक दलों ने भी समर्थन किया है|

दोस्तों, ‘आपको हमारा यह आर्टिकल 8 दिसंबर भारत बंद किसानों का विरोध प्रदर्शन| 8 December bharat bandh by farmers in Hindi. कैसा लगा? आप हमें कमेंट करके बताए और हमारे इस आर्टिकल को शेयर और लाइक करना ना भूले|

Thanks For Reading
Sanjana Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *