अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस| Happy International Women’s Day in Hindi.


Happy International Women’s Day in Hindi
अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस


अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस हर साल 8 मार्च को मनाया जाता हैं| इतने महत्वपूर्ण दिन को अलग- अलग क्षेत्रों में काम कर रही महिलाओं का सम्मान और उनकी उपलब्धियों का उत्सव मनाने का दिन होता हैं|

भारतीय संस्कृति में नारी को अत्याधिक सम्मान दिया गया हैं| दोस्तों ऎसा माना जाता हैं “जहां नारी का सम्मान होता हैं, वहां देवता निवास करते हैं”….किंतु वर्तमान में भारत में जो नारी के प्रति हालात दिखाई दे रहे हैं|उसमे हर जगह नारी का अपमान होता आ रहा हैं| नारी को भोग की वस्तु समझकर हर आदमी अपने तरीके से इस्तेमाल कर रहा हैं|

दोस्तों ऎसा करना हमारी संस्कृतियों को लज्जित कर रहा हैं|हमें अपनी संस्कृति को बनाये रखते हुए नारी का सम्मान कैसे करना हैं इस पर विचार करना चाहिए|

 इसकी शुरुआत घर में अपने बच्चों के साथ कैसे करें-

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि हमें आधे से ज्यादा सीख अपने परिवार वालों से मिलती हैं|बड़े-बुढ़े हमें जो सिखाते हैं हम उस पर अम्ल करते हैं| तो दोस्तों आप सभी अपने घर में हर एक पुरुष व बच्चों को यह सीख दे कि वह सभी लड़कियों का सम्मान करें| उनसे कोई भी दुर्व्यवहार ना करें, हर एक लड़की को सम्मान की नजरों से देखे, अगर वो आपकी बहन नहीं हैं तो क्या हुआ?? किसी की तो बहन हैं|

इसलिए लड़कों को हर एक लड़की का  सम्मान करना व उनके साथ अच्छे से व्यावहार करना बहुत जरूरी है|अगर परिवार वाले उनको शुरू से ही अच्छी परवरिश दे तो आगे जाकर आपको एसी स्थिति का सामना नहीं करना पड़ेगा|

 अपनी माँ को सम्मान अवश्य दे-

आजकल के दौर में बच्चे अपनी माँ तक तो सम्मान देना भूल गए हैं| ‘माँ’ अर्थात्‌ माता के रूप में नारी, धरती पर सबसे पवित्र रूप माना गया हैं| माँ यानि जननी, माँ को ईश्वर से भी बढ़कर माना जाता हैं|

दोस्तों, क्योंकि ईश्वर की भी जन्मदात्री नारी ही रहीं हैं|लेकिन दोस्तों बदलते समय के हिसाब से सन्तान की सोच भी बदलती जा रहीं हैं वह बस लोभ और लालच का भूखा रह गया हैं| सन्तान अपनी माँ को मह्त्व देना भूल गए हैं, बच्चे दो पल भी अपनी माँ के पास जाकर नहीं बैठते हैं और ना ही उनसे उनका हालचाल पूछते हैं|

तो दोस्तों ऎसा बिल्कुल भी नहीं करे अपनी माँ को अवश्य सम्मान दे और नारी दिवस पर उनके लिए कुछ बेहतरीन तरीके से सम्मान दे| इतिहास उठाकर देखे तो नारी शुरू से ही हमारे देश के लिए बहुत कुछ करती आ रहीं हैं-

गाँधी जी ने देश के लिए बहुत कुछ किया और इस देश के लिए अपनी जान तक दे दी| लेकिन कभी भी उन्होंने नारियों के प्रति अपनी गंदी नजर नहीं रखी थी, यह सारे संस्कार उन्हें अपनी माँ पुतली बाई से मिले थे|

ठीक उसी प्रकार शिवाजी महाराज में संस्कारों का बीजारोपण जीजा बाई ने किया था| जिसका ही परिणाम हैं कि शिवाजी महाराज व गाँधी जी को हम आज भी उनके श्रेष्ठ कर्मों के लिए जानते हैं और उनके बारे में अपने बच्चों को अवश्य बताते हैं|

इसलिए अपने बच्चों को अच्छे संस्कार देकर समाज में उदाहरण बनाना नारी ही कर सकती हैं|अतः नारी सम्मानीय हैं|

किसी भी महिला के प्रति गंदी नजर ना रखे-

क्यों कोई ये नहीं सोचता हैं कि वह लड़की किसी की बेटी होगी, किसी की बहन होगी या फिर किसी की बीबी या माँ होगी|पुरुष जाति अपनी गंदी नजरों से उन्हें देखते हैं, उनके साथ गलत तरह का व्यवहार करते हैं| तो दोस्तों ऎसा बिल्कुल भी ना करें, हर एक लड़की सम्मान करना अपना फर्ज समझे और किसी भी लड़की के साथ अगर आप किसी को गलत व्यवहार करते हुए देखते हैं, तो उसको उससे बचाना अपना कर्तव्य समझे|

इस महिला दिवस आप हर एक महिला को भाव पूर्वक सम्मानित अवश्य करें और हर महिला को यह एहसास दिलाए की वह इस देश में सुरक्षित हैं, उसे किसी भी प्रकार की कोई हानि नहीं होगी|