हंता वायरस क्या हैं? What is Hanta Virus in Hindi?

हंता वायरस क्या हैं What is Hanta Virus in Hindi

हंता वायरस क्या हैं? What is Hanta Virus in Hindi?


दोस्तों जैसे की आप सभी जानते ही हैं कि दुनियाभर में एक बहुत ही बड़ी बीमारी फैली हुई हैं| जिसका नाम “कारोना वायरस”(Corona Virus) हैं| लोग अभी इस बीमारी से तो बच ही नहीं पाए कि चीन से सुनने में आ रहा हैं कि ”हंता वायरस”(Hanta Virus) नाम का एक और वायरस चीन में ही दस्तक दे चुका हैं|

कारोना वायरस से अभी पूरी दुनिया डरी हुई हैं और इसी बीच ”हंता वायरस”(Hanta Virus) ने लोगों ने दिल में खौफ पैदा कर दिया हैं|

दोस्तों लोगों को डर ज्यादा इस बात का हैं, क्योंकि यह वायरस भी चीन से ही पाया गया हैं और सोशल मीडिया पर इस वायरस को लेकर खूब चर्चा हो रही हैं|

तो दोस्तों, आइए हम इस वायरस के बारे कुछ महत्वपूर्ण बाते बताते हैं-

” हंता वायरस ”(Hanta Virus) क्या हैं?

”हंता वायरस”(Hanta Virus) से ज्यादा घबराने की जरूरत नहीं हैं, क्योंकि य़ह कोरोना वायरस की तरह घातक नहीं हैं|

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन के अनुसार  ”हंता वायरस”(Hanta Virus), वायरसों की उस फैमिली के मेंबर्स होते हैं, जो मुख्य रूप से चूहे से होते हैं|

दोस्तों सबसे महत्वपूर्ण बात यह हैं कि ”हंता वायरस”(Hanta Virus) छूने से या फिर हवा के रास्ते से नहीं फैलता हैं|

यह वायरस चूहे या गिलहरी के संपर्क में आने से फैलता हैं, जो भी मनुष्य चूहे का सेवन करते हैं उन्हें इससे सावधानी परखनी होगी|

” हंता वायरस ”(Hanta Virus) कहाँ से आया हैं?

दोस्तों ”हंता वायरस”(Hanta Virus) भी चीन से ही पाया गया एक वायरस हैं| जो अभी एक व्यक्ति की जान ले चुका हैं|

”हंता वायरस”(Hanta Virus) का नाम हंता क्यों रखा गया हैं?

”हंता वायरस”(Hanta Virus) का चीन के साथ ही दक्षिण कोरिया से भी सम्बन्ध हैं, दरअसल इस वायरस का नाम दक्षिण कोरिया की एक नदी के नाम पर पड़ा हैं| इस नदी का नाम ही हंता हैं|

साल 1978 में कोरियाई हेमटोलॉजिक बुखार दक्षिण कोरिया के रोडेंट इलाके के आसपास फैला था, जो कि हंता नदी के पास थी|

 इस वायरस का नाम तभी से हंता पड़ा था|

”हंता वायरस”(Hanta Virus) के लक्षण-

”हंता वायरस”(Hanta Virus) के संक्रमित लोगों को बुखार, मांसपेशियों में दर्द, थकान होता हैं|

ये दर्द जांघ-कुल्हे, पीठ और कंधे में ज्यादा हो सकता हैं| इसके अलावा सिर में दर्द, ठण्ड लगना, चक्कर आना, पेट में दर्द होना, दस्त होना भी इस वायरस के संक्रमण हो सकते हैं|

दोस्तों अगर इस वायरस को पहचानने में देरी हुई तो इससे संक्रमित  मरीज़ के फेफड़ों में तरल पदार्थ भरने लगता हैं और उसे साँस लेने बहुत परेशानी होती हैं|

”हंता वायरस”(Hanta Virus) का इलाज क्या हैं?

दोस्तों वायरस कोई भी हो, असर जरूर करता चाहे फिर थोड़ा करें या ज्यादा, ठीक उसी प्रकार ”हंता वायरस”(Hanta Virus) भी एक जानलेवा वायरस हैं बस फर्क़ सिर्फ इतना हैं यह “कारोना वायरस”(Corona Virus) की तरह इतनी जल्दी असर नहीं करता हैं और ना ही छूने से फैलता हैं|

1.”हंता वायरस”(Hanta Virus) का अभी तक कोई स्पष्ट इलाज नहीं हैं, केवल मेडिकल देखभाल और आईसीयू के जरिए मरीज की निगरानी की जाती हैं|

  1. आक्सीजन सिलेंडर के द्वारा मरीजों को साँस लेने में मदद पहुंचाई जाती हैं|
  1. बुखार और थकान वाले व्यक्ति को चूहे से दूर रहना चाहिए|
  2. यह वायरस चूहे और गिलहरी के संपर्क में होने फैलता हैं तो जितना आप इनसे दूरी बनाएंगे उतना ही सैफ रहेंगे|

”हंता वायरस”(Hanta Virus) से कैसे बचे?

  1. ”हंता वायरस”(Hanta Virus) से बचने का सबसे बेहतरीन और आसान तरीका यह हैं कि घर और कार्यालयों या फिर जहां रहने वाली जगह पर चूहे ना पहुँच सके|
  2. हमेशा इस बात का ध्यान रखिए और नजर दीजिए की जहां आप रह रहे वहां एक भी चूहा ना जा सके|
  1. चूहे और गिलहरी से खासकर दूरी बनाकर रखे|

4 ”हंता वायरस”(Hanta Virus) एक शख्स से दूसरे तक नहीं जाता, लेकिन अगर कोई चूहों के मल, पेशाब आदि  को छूने के बाद अपनी आँख, नाक, मुँह को छूता है तो उसको ”हंता वायरस”(Hanta Virus) से संक्रमित होने की संभावना ज्यादा होती हैं|

ऐसे में लोगों को इस बात का खास ध्यान रखने की जरूरत होती हैं|

भारत में ”हंता वायरस”(Hanta Virus) का कितना खतरा हैं?

सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन की रिपोर्ट के मुताबिक यह वायरस अभी तक चीन और अर्जेंटीना में ही पाया गया हैं|

अभी तक केवल चीन में इस वायरस से एक ही इंसान की जान गयी हैं|

चीन में जिस शख्स की मौत हुई, लोगों ने पहले उसे कारोना से पीड़ित समझा था|

रिपोर्ट्स के मुताबिक जब उसे हॉस्पिटल में लाया गया और उसकी बॉडी का पोस्टमार्टम किया तो पता चला कि वो कारोना वायरस से नहीं हंता वायरस के द्वारा मरा हैं|

इसके बाद बस में बैठे हुए 32 यात्रियों की जांच की गयी|

हालांकि इसके बारे में अभी ज्यादा जानकारी किसी को नहीं मिल पायी हैं, बस सबका अभी इतना कहना हैं कि यह वायरस चूहे और गिलहरी के संपर्क में आने से होता हैं|

सीडीसी के मुताबिक चूहों के मल-मूत्र से दूर रहे तो इस वायरस का कोई संक्रमण नहीं होगा|

दोस्तों अभी इतना घबराने की बात नहीं हैं इस वायरस से भारत को अभी कोई खतरा नहीं हैं|

दोस्तों, ‘आपको हमारा यह आर्टिकल हंता वायरस क्या हैं? What is Hanta Virus in Hindi? कैसा लगा आप हमें कमेंट करके बताए और हमारे इस आर्टिकल को शेयर और लाइक करना ना भूले|

Thanks For Reading
Sanjana

यह भी पढ़े –

हमारे अन्य ब्लॉग भी पढ़े –