कोरोना वायरस अफवाह और इनका हल| Coronavirus covid19 rumours in Hindi?

कोरोना वायरस अफवाह और इनका हल| Coronavirus covid19 rumours in Hindi

कुछ बीते दिनों में कई देशों में यह दावे किए जा रहे हैं, कि कोरोना वायरस गर्मी की वजह से खत्म हो जाएगा| कई जगह यह कहा जा रहा है कि पानी को गर्म करके पीजिए और गर्म पानी से ही स्नान कीजिये| सोशल मीडिया पर पता नहीं एक से एक अफवाहें फैलाई जा रहीं हैं|

इनमे से एक अफवाह यह भी है कि अगर व्यक्ति पानी को गर्म करके पिए और सूरज की धूप में बैठे और धूप ले तो कोरोना वायरस का असर खत्म किया जा सकता है| इसमे आइस क्रीम जैसे ठंडे चीजों को खाने से मना किया गया है| इतना ही नहीं बल्कि यह भी बताया जा रहा है कि यह सारी बातें Unicef ने कही है|

तो आइये इस बात के बारे में थोड़ा अच्छे तरीके से जानते हैं और इस वायरस से बचने का सफल प्रयास करते हैं-

 UNICEF के नाम पर झूठा संदेश सोशल मीडिया पर फैलाया गया-

 UNICEF के लिए काम करने वाली चार्लेट गोड्नेस कहती हैं कि हाल ही में एक UNICEF के नाम पर एक संदेश इधर-उधर ऑनलाइन फैलाया जा रहा है कि आइस क्रीम और ठंडी चीजों से दूर रहने से इस वायरस से बचा जा सकता है| इन्होंने यह भी कहा कि यह संदेश पूरा का पूरा झूठा संदेश है|

 कोरोना वायरस फैलता कैसे हैं?

  1. कोरोना वायरस liquid droplets यानि छींकते समय बाहर आने वाली बूंदे से फैलता है|
  1. अगर कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति छींकता हैं तो वह एक वक्त पर 3000 से ज्यादा droplets बाहर आते हैं|
  1. इन droplet में करोड़ों कोरोना वायरस प्रोटीन कवरिंग में होते हैं| इसलिए समय-समय पर अपने हाथों को सेनिटाइजिंग करते रहिए और इससे सुरक्षित रहिए|

 कोरोना वायरस शरीर से बाहर कितने देर तक ऐक्टिव रहता है?

  1. अमेरिकन नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ हेल्थ ने अपने रिसर्च में पाया हैं कि यह वायरस Liquid droplets में तीन से चार दिन तक जिंदा रह सकता है|
  1. यह droplets कुछ वक़्त तक हवा में तैर सकते हैं|
  1. उसमे से कोई droplet अगर किसी लकड़ी पर पड़ा तो 24 घंटे से ज्यादा ऐक्टिव रह सकता है|
  1. अगर वो किसी stainless Steel पर पड़ा तो दो से तीन तक ऐक्टिव रह सकता है|
  1. इसका मतलब यह है कि जो व्यक्ति इसके संक्रमण में है, उसने कुछ छूआ या छींका तो वहीं चीज अगर आपने छू ली और आँख, नाक या कान को आपने छू लिया तो यह वायरस आपके भी शरीर में प्रवेश कर जाएगा|
  1. इसलिए यह ध्यान रखे के सिर्फ छूने से कुछ नहीं होगा इसका शरीर में प्रवेश करने से असर पड़ेगा|

गर्मी से कोरोना वायरस पर क्या प्रभाव पड़ेगा?

कोरोना वायरस 60 से 70 डिग्री के तापमान पर खत्म नहीं किया जा सकता है और ना ही उतना तापमान भारत में और ना किसी व्यक्ति के शरीर में हैं|

कुछ वायरस तापमान की वज़ह से खत्म होते हैं लेकिन कोरोना वायरस पर इसका क्या परिणाम होता है?

इसके बारे में ब्रिटिश की डॉक्टर सारा जार्वी कहती हैं कि सन् 2002 में सार्स महामारी नाम का एक खतरनाक वायरस नवंबर में शुरू हुआ था और जुलाई में खत्म हो गया था|

अब यह तापमान बदलने के वजह से खत्म हुआ इसके बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता है|

वाय्रोलोजिस्ट डॉक्टर परेश देशपांडे का कोरोना वायरस के ख़िलाफ़ मत-

वाय्रोलोजिस्ट डॉक्टर परेश देशपांडे का कहना है कि अगर कोई भारी गर्मी में छींका तो धूप से कोरोना droplets जल्दी से सूख सकते हैं और कोरोना का संक्रमण कम हो सकता है|

लेकिन यह वायरस पूरी तरह से खत्म हो जाएगा, यह कहना अभी मुश्किल है|

हम जानते हैं कि फ्लू वायरस गर्मी के दिनों में शरीर के बाहर नहीं रह पाता है, लेकिन हमें इसके बारे में नहीं पता है कि कोरोना वायरस पर गर्मी का क्या असर पड़ेगा| गर्मी में कोरोना वायरस खत्म होगा इसका कोई ठोस सबूत नहीं है|

तापमान के भरोसे ना बैठे-

तापमान के भरोसे नहीं बैठिए, क्योंकि यह विश्व के कई देशों में फैल चुका है| जिनमें ग्रीनलैंड जैसे ठंडे देश भी है और दुबई जैसे गर्म देश और मुंबई जैसे Humid देश भी शामिल है और दिल्ली जैसे सूखे शहर भी है| एक बार अगर यह वायरस किसी के शरीर में प्रवेश कर गया तो इसे मारने का तरीका अभी तक नहीं निकला है, इसलिए सावधान रहिए और सुरक्षित रहिए|