पाकिस्तान में रमजान में मस्जिदों में नमाज अदा होगी| Ramadan in Pakistan.

पाकिस्तान में रमजान में मस्जिदों में नमाज अदा होगी Ramadan in Pakistan
पाकिस्तान में रमजान में मस्जिदों में नमाज अदा होगी Ramadan in Pakistan
पाकिस्तान में रमजान में मस्जिदों में नमाज अदा होगी Ramadan in Pakistan.

दोस्तों अभी के इस समय में सारा विश्व कोरोना वायरस के संकट से जूझ रहा हैं| इसी बीच पाकिस्तान की सरकार ने रमजान के पाक के महीने में नमाज अदा करने के लिए एक अहम मंजूरी दे दी हैं| पाकिस्तान की सरकार ने नमाजियों को 6 फीट की दूरी बनाकर मस्जिद में नमाज अदा करने को कहा हैं| दोस्तों य़ह तो अब रमजान में ही पता चलेगा कि सरकार के इस अहम निर्णय से पूरा पाकिस्तान संकट में पड़ जाता हैं कि नहीं पड़ता हैं| तो आइये दोस्तों पाकिस्तान सरकार के इस महत्वपूर्ण निर्णय के बारे में पढ़ते हैं- पाकिस्तान में रमजान में मस्जिदों में नमाज अदा होगी| Ramadan in Pakistan.

पाकिस्तानी सरकार की जनता से कुछ शर्तें-

पाकिस्तान की सरकार ने रमजान के महीने में वहाँ नमाज पढ़ने के लिए मस्जिदों में इजाजत दे दी हैं| लेकिन इसके लिए पाकिस्तानी सरकार ने कुछ शर्तें भी रखी हैं| जैसे कोई बीमार व्यक्ति मस्जिद में नमाज अदा करने नहीं जा सकता हैं, 50 साल से ज़्यादा उम्र के लोग और छोटी उम्र के बच्चों को मस्जिद में नमाज अदा करने की मंजूरी नहीं होगीं| नमाज अदा करने के लिए सभी नमाजियों के बीच कम से कम 6 फीट की दूरी होगी|

मस्जिद में कोरोना वायरस से बचने की असुविधाएं-

पाकिस्तान के राजसी नेता किसी हद तक खुश हैं, लेकिन वह यह काबू नहीं कर सकते कि अगर मस्जिद में नमाज अदा करने वालों की तादात पूरी हो जाती हैं, तो वो नमाजियों को मस्जिद में जाने से रोकेंगे या अगर कोई व्यक्ति मस्जिद में जाना चाहता हैं, तो मस्जिद में जाने से पहले उसे चेक नहीं किया जा सकता हैं, इससे यह पता नहीं चल पाएगा कि कोई कोरोना संक्रमित व्यक्ति भी नमाज अदा करने के लिए मस्जिद में प्रवेश हैं और कोरोना वायरस को अपने आस-पास फैला रहा हैं|

सरकार का महत्वपूर्ण एग्रीमेंट-

पाकिस्तान के राष्ट्रपति और वहाँ के नेताओं के बीच एक एग्रीमेंट हुआ था| उस एग्रीमेंट की एक शिफ्ट यह भी थी कि अगर कोई मस्जिद इस एग्रीमेंट के खिलाफ अर्जी करती हैं| तो पाकिस्तान सरकार उसके खिलाफ इसी तरह एक्शन ले सकती हैं, जिस तरह जिगरीदारों के खिलाफ एक्शन लेने का अधिकार हैं| लेकिन ऐसा कुछ भी होते हुए दिखाई नहीं दे रहा हैं|

मस्जिद में पाँच लोग एक साथ नमाज अदा कर सकते हैं-क्योंकि माज़ी में भी हुकूमत की तरफ यह कहा गया था कि ज्यादा से ज्यादा पाँच लोग एक साथ नमाज अदा कर सकते हैं| लेकिन ऐसा नहीं हुआ और पाकिस्तान में मजहब को एक बुनियादी अहमियत हासिल हैं और कोई भी हुकूमत, चाहे जैसे भी हालात हो राजसी नेताओं के मर्जी के खिलाफ नहीं जा सकती हैं|क्योंकि उनकी जड़ें अवहान में होती हैं|

दोस्तों, ‘आपको हमारा यह आर्टिकल पाकिस्तान में रमजान में मस्जिदों में नमाज अदा होगी| Ramadan in Pakistan. कैसा लगा? आप हमें कमेंट करके बताए और हमारे इस आर्टिकल को शेयर और लाइक करना ना भूले|

Thanks For Reading
Sanjana Singh

यह भी पढ़े- Latest News Articles

हमारे अन्य ब्लॉग भी पढ़े –

Facebook     Twitter    Instagram