समाज सेवा की एक अनसुनी कहानी | Ashima Success Story in Hindi.

समाज सेवा की एक अनसुनी कहानी | Ashima Success Story in Hindi.

समाज सेवा की एक अनसुनी कहानी और College से 30 लाख का मिला Package


समाज सेवा की एक अनसुनी कहानी | Ashima Success Story in Hindi.आज आशिमा  को कौन नहीं जानता हैं, आशिमा ने 12 वी की परीक्षा पास करने के बाद बी.ए.करने का फैसला किया| आशिमा ने बी.ए. दिल्ली के स्टीफन कॉलेज से किया| आशिमा को समाज को  करीब से समझने का बहुत शौक रहा हैं| इसी कारण से उन्हें सामाजिक कार्यो में बढ़-चढ़ कर हिस्सा लेना हमेशा से पसंद हैं……

 

 

 

सामने हो मंजिल तो रास्ता ना मोड़ना,
जो मन में हो वो ख्वाब ना तोड़ना…..
हर कदम में मिलेगी कामयाबी तुम्हें,
बस सितारे छूने के लिए कभी जमीन ना छोड़ना…

आशिमा किस Service से जुड़ी हैं-

आशिमा अपनी पढाई के साथ-साथ Social Services से भी जुडी हैं और उसमे उन्होंने अपना पूरा योगदान दिया हैं|वह College के दिनों में एक Social Enterprinarianship Organisation की President भी रह  चुकी हैं|

आशिमा का यहां तक पहुँचने का सफर कैसा था-

वो दौर अब ख़त्म हो चुका हैं|जहाँ लड़कियों को घर से बहार निकलने नहीं दिया जाता था और हमेशा उन्हें पर्दे में ही रखा जाता था|लेकिन आज समय बदल चुका हैं और इस बदलते समय के साथ-साथ हमारा समाज भी आगे बढ़ रहा हैं और अपनी सोच को बदल रहा हैं|

आज लोग बेटा और बेटी में कोई फर्क नहीं समझते हैं,बल्कि बेटियां हर क्षेत्र में बढ़-चढ़ कर अपनी भूमिका निभा रही हैं और सफलता हासिल करने में चार कदम आगे निकल रही हैं|

राजस्थान की आशिमा जैन ने अपनी शुरुआती शिक्षा पूरी करने के बाद दिल्ली के प्रसिद्ध सेंट स्टीफन कॉलेज में Economics से बी.ए.  ओनर्स की डिग्री प्राप्त की| उन्हें बचपन से ही कुछ अलग करने की इच्छा रही हैं| वह हमेशा से अपने सपनों को सच करने में हर सम्भव प्रयास करती हैं|

जयपुर शहर की रहने वाली आशिमा जैन एक बड़े घर से ताल्लुक रखती हैं| उन्हे बचपन से ही पढाई लिखाई में विशेष रूचि रही हैं| उन्होंने 12 वी की कक्षा में 96.40 प्रतिशत प्राप्त किया और अपने परिवार के साथ -साथ अपने समाज का नाम भी ऊँचा कर दिया|

12वी की परीक्षा में टॉप करने के बाद आशिमा ने दिल्ली के स्टीफन कॉलेज से बी.ए. करने का फैसला किया| उन्हें समाज को करीब से समझने का बहुत शौक हैं| इसी कारण से आशिमा को सामाजिक विषयों में बढ़ – चढ़ कर हिस्सा लेना पसंद हैं| आशिमा ने बहुत से   सामाजिक संगठनों में अपना पूरा योगदान दिया हैं| कॉलेज के समय में आशिमा ने अपने पाँच दोस्तों के साथ बजिफाई एनपीओ (Non Profit Organisation) की शुरुआत की और समाज को सही दिशा पर ले जाने के लिए अपने तरफ से पहल की| बजिफाई एनपीओ संगठन के बैनर तले उन्होंने दिल्ली के छोटे – बड़े एनजीओ की Marketing के साथ-साथ उसकी Publicity करके कई लोगो को जागरूक करने मे अहम योगदान दिया हैं| आशिमा ने अपने दोस्तों के साथ जुड़कर उन्होंने सैफ सिटी कैम्पेन चला कर शहर के सारे नगरों को बारीकी से निहारा और वहाँ की कमियों को परखते हुए आम लोगो की तकलीफ को दूर करने का काम किया|

अँधेरी गलियों में Street Light और Camera लगाने जैसे अहम मुद्दों को अपनी File में Note किया| आशिमा ने और बहुत ही अच्छा काम किया हैं जिस क्षेत्र महिला Police कर्मचारी की कमी थी उन्होंने उस हर क्षेत्र की List बनाई और Delhi Police को सौंफ दी|

किस एनजीओ के लिए आशिमा ने अपना पूरा योगदान दिया हैं-

आशिमा बहुत ही मेहनती लड़की थी| उन्होंने समाज की महिलाओं और छोटे बच्चों को ध्यान में रखते हुए| आशिमा जैन ने एक ‘लक्ष्यम नामक एनजीओ’ के साथ मिलकर उनके बेहतर भविष्य के लिए भी बहुत ही बड़े काम किये हैं  बिडफ फॉर बैटर( Bidf For Better) में इन्होने समाज के लोगों को Cancer के प्रति जागरूक कर उन्हें महत्वपूर्ण जानकारियों से अवगत कराया हैं|

‘दक्षणा नामक एनजीओ’ के साथ मिलकर आशिमा ने शहर से रद्दी, पेपरों को जमा किया और उसकी Recycling कर,लोगों को  पर्यावरण के प्रति भी जागरूक किया|

इनकी इतनी समझदारी और काबिलयत को देखकर ही इन्हे ‘Campus Placements’ में ‘Multinational company Parthenan’ की  ओर से इनको 30 लाख का पैकेज(Package) भी मिला था|

आशिमा जैन एक उदाहरण हैं,उन लोगों के लिए जो अपनी बेटियों को पढ़ने या घर से बाहर निकलने के लिए रोक लगाते हैं| आशिमा के ऊपर उनके परिवार को ही नहीं बल्कि पूरे समाज को गर्व हैं|

Friends आपको मेरा ये Article कैसा लगा हमें Comment के through बताना ना भूले और इसे Like और Share जरूर करें|

यह भी पढ़े –

1.
2.
3.
4.
5.

हमारे अन्य ब्लॉग भी पढ़े –

Facebook     Twitter    Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *