काव्या और नीम का पेड़ प्रेरणादयक कहानी| Kavya and Neem tree Inspiring Story in Hindi.

काव्या और नीम का पेड़ प्रेरणादयक कहानी| Kavya and Neem tree Inspiring Story in Hindi.

Kavya and Neem tree Inspiring Story in Hindi
प्रेरणादायक कहानी, काव्या और नीम का पेड़


काव्या और नीम का पेड़ प्रेरणादयक कहानी| Kavya and Neem tree Inspiring Story in Hindi.
काव्या और नीम का पेड़ प्रेरणादयक कहानी| Kavya and Neem tree Inspiring Story in Hindi.

एक बार एक छोटी सी लड़की गर्मियों की छुट्टी बिताने के लिए अपने नाना के घर गयी थी| लड़की का नाम काव्या था| काव्या एक बहुत ही समझदार व बहुत प्यारी लड़की थी|

छोटे बच्चों के मन में बहुत अजीब-अजीब से सवाल आते हैं, ठीक उसी प्रकार काव्या के मन में भी एक सवाल था, जो उसने अपने नाना जी से पूछा?

नाना जी मेरे स्कूल में मेरी क्लास टीचर हमेशा यह पढ़ाती हैं कि महान लोग थे, महान लोग थे उन महान लोगों ने ऎसा कौन-सा महान काम किया था, जो वह सभी लोग महान बन गए| नाना जी ने काव्या को कुछ इस प्रकार से समझाया-

नाना जी ने कहा बेटा हम आज बाजार चलेंगे और दो छोटे-छोटे पौधें लेकर आएंगे|

शाम में बाजार गए और दो पौधें लेकर आए, नाना जी ने एक पौधा गमले मे लगा दिया और दूसरा पौधा बाहर आँगन में लगाने को काव्या से कहा|

काव्या को कुछ समझ नहीं आ रहा था, तब उसने नाना जी से पूछा नाना जी हम ये क्या कर रहे हैं?

तब नाना जी ने कहा कि बेटा हम एक पौधा बाहर लगा रहे हैं और एक घर के अंदर लगा रहे हैं अब तुम बताओ कि तुम्हारे हिसाब से कौन सा पौधा बड़ा होगा?

काव्या ने नाना जी से कहा-कि मेरे हिसाब से नाना जी घर के अंदर लगा हुआ पौधा ही बड़ा होगा  क्योंकि ना तो उसे किसी प्रकार की कोई समस्या होगी ना तो उसे धूप लगेगी और ही अन्य कोई परेशानी होगी इसलिए घर के अंदर लगा हुआ पौधा ही बड़ा होगा|

नाना जी ने कहा-ठीक हैं देखते हैं|

एक साल बीत गए, अब फिर से काव्या गर्मियों की छुट्टी में अपने नाना जी के घर गयी और जाते ही उनसे पूछने लगी कि बताइए नाना जी कौन सा पौधा बड़ा हुआ  हैं और कैसे सब लोग महान बनते हैं जो सब बोलते हैं महान लोग महान लोग करते हैं ??????

तब नाना जी ने कहा जाओ बेटा हमने जो पौधें लगाए थे, उन दोनों पौधों को  देखो और बताओ कौनसा आ पौधा बड़ा हुआ हैं|

काव्या पहले घर में जो पौधा लगा हुआ था उसने उसको देखा वो पौधा बड़ा हो गया हैं, वो नाना जी के पास आयी और नाना जी से कहने लगी मैंने बोला था ना नाना कि घर के अंदर लगाया हुआ पौधा ही बड़ा होगा और चमकदार भी|

नाना जी ने कहा कि बेटा ये सब कहने से पहले एक बार बाहर जाकर देखो जो पौधा हमने बाहर लगाया था|

काव्या बाहर गयी उसने देखा उसे बाहर कोई पौधा नहीं दिखाई दिया ब्लकि उसे एक बहुत बड़ा पेड़ दिखा|वो बहुत ही चौक सी गयी और तुरंत वो अंदर जाकर नाना जी से कहने लगी कि नाना जी ये चमत्कार कैसे हो गया?

तो नाना जी ने कहा बेटा-जो पौधा घर के अंदर रहा उसे कोई परेशानी नहीं आयी और जिसकी जिंदगी में कोई परेशानी नहीं आती वो बड़ा नहीं बन पाता|

जो बाहर पेड़ दिख रहा हैं उसने तेज धूप भी सही, तेज बारिश भी सही और कई अन्य  परेशानी का खुद उसने सामना किया और आज वो पौधा पेड़ बन गया|

दोस्तों हमारी और आपकी भी जिंदगी कुछ एसी ही हैं जब तक हमारी जिंदगी में चैलेंज नहीं आएगा तब तक हम आगे नहीं बढ़ पाएंगे अगर आप किसी समस्या का सामना कर रहे हैं तो भरोसा रखिए सब कुछ ठीक हो जाएगा और अगर आपकी जिंदगी में सब कुछ सही तरीके से चल रहा हैं तो अपनी जिंदगी में चैलेंज को लेकर आइए और उसका सामना कीजिए क्योंकि जब आप वो चैलेंज को स्वीकर करेंगे तो आपकी गिनती भी उन महान लोगों की लिस्ट में की जायेगी|

दोस्तों, ‘आपको हमारा यह आर्टिकल काव्या और नीम का पेड़ प्रेरणादयक कहानी| Kavya and Neem tree Inspiring Story in Hindi. कैसा लगा आप हमें कमेंट करके बताए और हमारे इस आर्टिकल को शेयर और लाइक करना ना भूले|

हमारा फेसबुक पेज- Achhibate 

Thanks For Reading
Sanjana

यह भी पढ़े –

1.
2.
3.
4.
5.

हमारे अन्य ब्लॉग भी पढ़े –

Facebook     Twitter    Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *