यह चंद्रग्रहण क्यों सबसे अलग हैं? Chandra Grahan June 2020 in India in Hindi.

यह चंद्रग्रहण क्यों सबसे सबसे अलग हैं Chandra Grahan June 2020 in India in Hindi.
यह चंद्रग्रहण क्यों सबसे सबसे अलग हैं Chandra Grahan June 2020 in India in Hindi.
यह चंद्रग्रहण क्यों सबसे सबसे अलग हैं Chandra Grahan June 2020 in India in Hindi.

दोस्तों साल 2020 में जून के महीने में तीन-तीन ग्रहण लगने वाले हैं| सबसे पहले 5 जून को लगने वाला चंद्रग्रहण आम चंद्रग्रहण से कुछ अलग तरह का हैं| यह चंद्रग्रहण साल 2020 का दूसरा चंद्रग्रहण होगा और इसके पहले जनवरी महीने में ग्रहण पड़ा था| दोस्तों यह चंद्रग्रहण कुल 3 घण्टे 16 मिनट का रहेगा| दोस्तों हमारा आज का आर्टिकल 5 जून को लगने वाले चंद्रग्रहण पर आधारित हैं| तो आइए दोस्तों हमारे आज के इस आर्टिकल को पढ़ते हैं-यह चंद्रग्रहण क्यों सबसे अलग हैं? Chandra Grahan June 2020 in India in Hindi.

चंद्रग्रहण कैसे लगता हैं?

यह एक खगोलीय घटना हैं| इस घटना में पृथ्वी सूर्य और चाँद के बीच में आ जाता हैं, तो चाँद पर सूर्य की रोशनी पृथ्वी की छाया से ढक जाती हैं, इसी घटना को चंद्रग्रहण कहते हैं|

5 जून को लगने वाला उपछाया चंद्रग्रहण कितने बजे लगेगा?

1. हिंदू पंचांग के अनुसार ज्येष्ठ मास की पूर्णिमा तिथि पर चंद्रग्रहण लगेगा| यह एक पेनुमब्रल चंद्रग्रहण होगा, जिसमें आमतौर पर एक पूर्ण चंद्रमा से अंतर करना मुश्किल होता हैं|

2. यह चंद्रग्रहण उपछाया ग्रहण होगा| चंद्रग्रहण की शुरुआत 5 जून की रात 11 बजकर 16 मिनट से लगना आरंभ हो जाएगा, जो अगले दिन, रात के 2 बजकर 32 मिनट तक रहेगा|

3. हालांकि उपछाया चंद्रग्रहण होने के कारण इसका सूतक काल मान्‍य नहीं होगा|

4. चंद्रग्रहण का सूतक ग्रहण लगने से 9 घंटे पहले शुरू हो जाता हैं| चंद्रग्रहण के समय चाँद वृश्चिक राशि में भ्रमण करेगा|

5. चंद्र ग्रहण का सबसे ज्यादा प्रभाव 12 बजकर 54 मिनट पर होगा|

उपछाया चंद्रग्रहण क्या होता हैं?

1. चंद्रग्रहण एक खगोलीय घटना हैं| यह खगोलीय घटना उस दौरान घटती हैं, जब चन्द्रमा पृथ्वी के ठीक पीछे उसकी प्रच्छाया में आ जाता हैं|

2. ऐसा केवल जभी होता हैं, जब चंद्रमा, पृथ्वी और सूर्य इस क्रम में लगभग एक सीधी रेखा में स्थित रहें|

3. उपछाया चंद्रग्रहण तब लगता हैं, जब पृथ्वी की परिक्रमा करने के दौरान चंद्रमा पेनुम्ब्रा से होते हुए गुजरता हैं|

4. यह पृथ्वी की छाया का बाहरी हिस्सा होता हैं| इस दौरान, चंद्रमा सामान्य से थोड़ा गहरा दिखाई देता हैं|

एक महीने में लगेंगे तीन ग्रहण-

इस बार के ग्रहण को लेकर थोड़ी चिंता का विषय हैं क्योंकि इस बार एक पखवाड़े में दो ग्रहण ही नहीं बल्कि एक महीने में तीन ग्रहण होने जा रहे हैं, जो कि डराने वाले संकेत दे रहे हैं| इस बार 5 जून के बाद 21 जूनको सूर्य ग्रहण लगेगा और इसके बाद 5 जुलाई को चंद्रग्रहण लगेगा, जो कि करीब 15 दिन में ही पड़ रहे हैं| 5 जुलाई को लगने वाला चंद्रग्रहण भारत में देखने को नहीं मिलेगा|

भारत समेत किन देशों में देखने को मिलेगा चंद्रग्रहण-

5 जून को लगने वाला चंद्रग्रहण भारत के अलावा यूरोप के अधिकांश भाग में दिखाई देगा| इसके अलावा यह अफ्रीका, एशिया, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अमेरिका समेत भारत में भी दिखाई देगा|

आप चंद्रग्रहण को कैसे देख सकते हो?

1. चंद्रग्रहण देखने का बेहद खूबसूरत नजारा आपको टेलिस्कोप की मदद से देखने को मिलेगा|

2. चंद्रग्रहण को सामान्य आंखों से देखा जा सकता है, परन्तु यह एक उपछाया चंद्रग्रहण हैं, जो कि खास सोलर फिल्टर वाले चश्मों (सोलर-व्युइंग ग्लासेस, पर्सनल सोलर फिल्टर्स या आइक्लिप्स ग्लासेस) से ही देखा जा सकेगा|

भारत में कैसा दिखेगा चंद्रग्रहण-

उपछाया चंद्र ग्रहण होने के वजह से चाँद के आकार में किसी भी तरह का कोई परिवर्तन देखने को नहीं मिलेगा| इसमें रात को चंद्रमा की एक धुंधली सी तस्वीर नजर आएगी|

चंद्र ग्रहण के समय क्या सावधानियां बरतनी होगी-

1. सूतक के समय भगवान का ध्यान और मंत्रों का जप करने से ग्रहण का अशुभ प्रभाव कम हो जाता हैं|

2. जब भी सूतक लगता हैं, तो उस समय भगवान की मूर्तियों न तो छुआ जाता और न ही पूजा होती हैं| इस दौरान मंदिर के द्वार बंद कर दिए जाते हैं|

3. सूतक काल में गर्भवती महिलाओं का घर से बाहर निकलना अशुभ होता हैं|

4. सूतक काल के समय किसी भी तरह का शुभ काम शुरू नहीं किया जा सकता है| 

दोस्तों, ‘आपको हमारा यह आर्टिकल यह चंद्रग्रहण क्यों सबसे अलग हैं? Chandra Grahan June 2020 in India in Hindi. आप हमें कमेंट करके बताए और हमारे इस आर्टिकल को शेयर और लाइक करना ना भूले|

यह भी पढ़े- Latest News Articles

हमारे अन्य ब्लॉग भी पढ़े –

Facebook     Twitter    Instagram 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *