एक व्यक्ति की मौत पर अमेरिका में जगह-जगह प्रदर्शन| America George Floyd Death Curfew in Hindi.

एक व्यक्ति की मौत पर अमेरिका में जगह-जगह प्रदर्शन America George Floyd Death Curfew in Hindi.
एक व्यक्ति की मौत पर अमेरिका में जगह-जगह प्रदर्शन America George Floyd Death Curfew in Hindi.
एक व्यक्ति की मौत पर अमेरिका में जगह-जगह प्रदर्शन America George Floyd Death Curfew in Hindi.

विश्व के सबसे ताकतवर देश अमेरिका में लोग सड़क पर उतर गए हैं और जगह-जगह प्रदर्शन हो रहे हैं| अमेरिका के झंडे जलाए जा रहे हैं और दुकानों में तोड़फोड़ के साथ लूट भी हो रहीं हैं| दोस्तों अमेरिका में यह सभी दृश्य जॉर्ज फ्लॉयड नामक व्यक्ति की हत्या के बाद शुरू हुआ हैं| दोस्तों हमारा आज का आर्टिकल इसी विषय पर हैं| तो आइए दोस्तों हमारे आज के इस आर्टिकल को पढ़ते हैं- एक व्यक्ति की मौत पर अमेरिका में जगह-जगह प्रदर्शन| America George Floyd Death Curfew in Hindi.

जॉर्ज फ्लॉयड की मृत्यु क्यों और कैसे हुई-

  1. 25 मई 2020 को मिनियापोलिस पुलिस ने जॉर्ज फ्लॉयड को नकली नोट चलाने के आरोप में हिरासत में लिया था|
  1. एक पुलिसकर्मी ने जॉर्ज की गर्दन पर लगभग आठ मिनट के लिए अपना घुटना रखा था जिसके बाद जॉर्ज फ्लॉयड को सांस लेने में दिक्कत हो रहीं थी|
  1. इसके कुछ समय पश्चात् जॉर्ज फ्लॉयड की मृत्यु हो गई|
  1. इसका विरोध करने के लिए अमेरिका में सैकड़ों लोग सड़क पर उतर आए हैं|
  1. लेकिन जॉर्ज फ्लॉयड ने क्या इतना बड़ा जुर्म किया था कि पुलिस ने उसके साथ इस तरह का व्यवहार किया|

इस घटना से लोगों में बहुत गुस्सा देखने को मिला-

जब इस घटना का वीडियो अमेरिका में वायरल हुआ, तो लोगों ने इसका गुस्सा सड़क पर उतर कर जाहिर किया और उन पुलिसकर्मियों का विरोध किया| लोग इसे नस्लभेद का एक कृत्य कह रहे हैं| जॉर्ज फ्लॉयड की गरदन पर घुटना रखने वाले पुलिसकर्मी डेरेक चौविन को गिरफ्तार कर लिया गया और उन पर हत्या के आरोप लगाए गए हैं|

लोगों के इस गुस्से में आग में घी डालने का काम अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के कुछ ट्वीट ने  किया| डोनाल्ड ट्रम्प ने ट्वीट कर कहा कि ठग नियम-कायदों का अनादर कर रहे हैं|

ट्वीटर ने डोनाल्ड ट्रम्प पर हिंसा फैलाने का आरोप लगाया-

ट्वीटर ने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प पर आरोप लगाते हुए कहा कि वो हिंसा का गुणगान कर रहे हैं| इसलिए उनके उस ट्वीट को छुपा दिया गया हैं, जिसमें लिखा था कि जब लूटपाट शुरू होती हैं, तो गोलीबारी शुरू हो जाती हैं| लोगों ने उनकी टिपण्णी की आलोचना की तो डोनाल्ड ट्रम्प कहने लगे कि वो केवल तथ्य सामने रख रहे थे|

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के लिए हालात काफी तनावपूर्ण हो गए हैं-

राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने जॉर्ज फ्लॉयड के परिवार को सांत्वना दी हैं| अब अमेरिका में नस्लीय भेद के इतिहास पर हिंसा शुरू हो गई हैं| काले लोगों के खिलाफ पुलिस के व्यावहार के मामलों को लेकर लोगों का गुस्सा बढ़ गया हैं| वॉशिंग्टन में तो प्रदर्शनकारी व्हाइट हाउस के पास इकट्ठा हो गए और उन्होंने पुलिस पर पथराव भी किया| करीब 40 शहरों में कर्फ्यू लगा दिया है, इसके बावजूद लोग सड़कों पर उतर आए हैं| इस कारण तनाव काफी ज्यादा बढ़ गया हैं|

जॉर्ज फ्लॉयड क्या काम करता था और कहाँ रहता था?

46 साल के जॉर्ज फ्लॉयड का जन्म उत्तरी कैरोलीना में हुआ था और ये ह्यूस्टन में रहता था लेकिन काम के सिलसिले में वह मिनियापोलिस आ गया| जॉर्ज फ्लॉयड मिनियापोलिस के एक रेस्तरां में सिक्योरिटी गार्ड का काम करता था| 

फ्लॉयड पांच साल से उस रेस्तरां में काम कर रहा था और मालिक के घर पर किराया देकर रहता था|  जॉर्ज फ्लॉयड को ‘बिग फ्लॉयड’ के नाम से भी  जाना जाता था, उसकी एक छह साल की बेटी है जो अपनी मां के साथ ह्यूस्टन में रहती है| जॉर्ज की पत्नी ने बताया कि वो एक बहुत अच्छे पिता थे|

जॉर्ज फ्लॉयड के जीवन के अंतिम शब्द-

जॉर्ज फ्लॉयड बार-बार कहता रहा कि मुझे मत मारो| वायरल वीडियो यह देखने को भी मिला कि जॉर्ज फ्लॉयड बार-बार कह रहे थे कि मैं साँस नहीं ले सकता हूँ| लेकिन जब तक उसकी आंखें बंद नहीं हुई और शरीर में हल्कापन नहीं आया, तब तक पुलिस ऑफिसर ने एक न सुनी| शव-परीक्षा की शुरुआती रिपोर्ट के मुताबिक जॉर्ज फ्लॉयड की स्वास्थ्य हालत और पुलिस की हिंसा का मिला-जुला परिणाम है जॉर्ज फ्लॉयड की मौत|

दोस्तों, ‘आपको हमारा यह आर्टिकल यह एक व्यक्ति की मौत पर अमेरिका में जगह-जगह प्रदर्शन| America George Floyd Death Curfew in Hindi. आप हमें कमेंट करके बताए और हमारे इस आर्टिकल को शेयर और लाइक करना ना भूले|

यह भी पढ़े- Latest News Articles

हमारे अन्य ब्लॉग भी पढ़े –

Facebook     Twitter    Instagram