विश्व फोटोग्राफी दिवस| World Photography Day in Hindi.

Hello dear Readers , आज का दिन 19 august , photography की दुनिया के लिए सबसे important day हैं | क्योकि आज का दिन world photography day के नाम से पुरे विश्व में  मनाया जाता हैं | आईए जानते है कि photography की शुरुआत कब ,कैसे और किसने की और आज के दिन को world photography day के नाम से क्यों जाना जाता हैं |


world photography day किसने और कब प्रारम्भ किया

19 august 1841 के दिन फ्रांस की सरकार ने फोटोग्राफी को पूरे विश्व के लिए तोहफे के रूप में घोषित किया था। 19 अगस्त के मतलब ही विश्व फोटोग्राफी दिवस हैं।अब बात करते है उन महान व बुद्धिमान लोगों की जिसने photography का आविष्कार किया था। जिनका नाम नाइसफोरे नाइस और लुइस डेगुरे जी हैं।

फ़ोटो क्लिक करने के बाद धुलना और फिर कागज पर उतारना इस पद्धति को 9 january 1839 में फ्रेंच अकेडमी ऑफ साइंस ने मान्यता दी। इस पद्धति को डॉगुरियोटाइप कहा जाता हैं।

उसके बाद 1839 में विलियम फॉक्स टैलबर ने कैलोटाइप फोटोग्राफी का आविष्कार किया, जो 1841 में बहुत ही सुर्खिया में आयी । फिर 170 साल बाद 19 august को world photography day के रूप में चुना गया।

2010  में ऑस्ट्रेलिया के कोस्के में इस मिशन को कामयाब बनाया गया इसी दिन 2010 को जब पहली ग्लोबल ऑनलाइन गैलरी लांच हुई , जिसमे पूरी दुनिया की 270 चुनिंदा तस्वीरे शामिल की गई।


अंतराष्ट्रीय फोटोग्राफी दिवस कैसे मनाया जाता हैं-

19 august को ही अंतर्राष्ट्रीय फोटोग्राफी दिवस हर साल दुनिया भर में बहुत जोश व उत्साह के साथ मनाया जाता हैं । यह दिन न केवल फोटोग्राफी अनुयायियों द्वारा मनाया जाता हैं बल्कि दुनिया भर के सभी लोग अपने व्यवसाय और हितो के बावजूद एक साथ मिलकर फोटोग्राफी के महत्व को समझने के लिए आने वाली दर-पीढ़ियों को प्रेरित करते हैं।

इस विशेष व महत्वपूर्ण दिन पर लाखों लोग अलग अलग विचारो को प्रस्तुत करतें हैं और दूसरो के साथ अपनी दुनिया को साझा करते हैं और इसके अलावा फोटोग्राफी के माध्यम से और अधिक खुशी प्राप्त करने की कोशिश करते हैं।  ऐसी दुनिया जहाँ हर घंटे अरबो फ़ोटो उपलोड किये जाते हैं

अंतर्राष्ट्रीय फोटोग्राफी दिवस दुनिया भर के कई फोटोग्राफरों को अपने उद्देश्य से एक तस्वीर के अपने विचार को प्रसारित करने के लिए प्रेरणा प्रदान करता हैफिर भी विभिन्न लोगो को प्रेरित करने के लिए फोटोग्राफर अलग अलग सोचते है ।

अंतर्राष्ट्रीय फोटोग्राफी दिवस का इतिहास –

एक तस्वीर की घोषणा 19 अगस्त 1939 को फ्रांस में पहली बार की गई थी । इस घोषणा की प्रस्तावना 9 जनवरी 1899 को की गई जहाँ फ्रांस के अकेडमी ऑफ साइंसेज ने डॉगुरियोटाइप प्रक्रिया की घोषणा की थी ।

बाद में उसी वर्ष 19 अगस्त को फ्रांसीसी सरकार ने पेटेंट की खरीद की और फ्रांकोइस अरगो , फ्रांस के 25वे प्रधानमंत्री ने फ्रांसीसी अकादमी डेस साइंस और अकादमी डेस बेउक्स को प्रस्तुत किया जिसने फोटोग्राफी की प्रक्रिया का वर्णन किया।

आरागों ने इसके शानदार भविष्य को समझाया तथा दुनिया के लिए इसके निःशुल्क उपयोग को बढ़ावा दिया। इसलिए इसे दुनिया के लिए मुफ्त उपहार के रूप में बोला गया ।19 अगस्त को पहली world  online  गैलरी का आयोजन किया गया था ।

यह दिन ऐतिहासिक था क्योंकि यह पहली online  गैलरी थी ।जिसका अभी तक आयोजन किया गया था और  इस दिन 270 फोटोग्राफों  ने तस्वीरों के माध्यम से अपने विचारो को साझा किया और 100 से अधिक देशो के लोगों ने website को देखा।

भारतीय इंटरनेशनल फोटोग्राफी कॉउन्सिल नई दिल्ली ने अपने संस्थापक, श्री ओ.पी. शर्मा के मार्गदर्शन में विभिन्न फोटोग्राफी दिग्गजो तक अपनी पहुँच का विस्तार किया ताकि हर साल फोटोग्राफी का जश्न मनाया जा सके । यह प्रतिक्रिया सकारात्मक रही और प्रस्ताव विभिन्न देशों में विश्व फोटोग्राफी दिवस के रूप में मनाया जाता हैं।।

फोटोग्राफी दिवस क्यों मनाया जाता हैं-

विश्व के कोने कोने में रहने वाले लोग 19 august की तारीख का इंतजार करते हैं। अंतर्राष्ट्रीय फोटोग्राफी दिवस का उद्देश्य विचारों को साझा करना हैं, सभी को इस विश्व की ओर अपना छोटा सा योगदान करने के लिए प्रोत्साहित करना और उन लोगों के काम का प्रसार करने के लिए लोगों का ध्यान खींचना हैं जिन्होंने दुनिया के लिए फोटोग्राफी पर अपना विचार प्रस्तुत करते हैं।

इस दिन का जश्न इसलिए मनाया जाता हैं ताकि विभिन्न देशों और संस्कृतियों के लोग एक ही छत के नीचे आ सके और इसी तरह के फोटो प्रदर्शनियो, प्रतियोगताये व्याख्यान कार्यशालाओं सेमिनार आदि को व्यवस्थित करने के लिए एक समान मंच पर आ सके ।

इस दिन उन व्यक्तियो को भी याद किया जाता है। जिन्होंने न केवल अतीत में अपना योगदान दिया हैं बल्कि आने वाली पीढ़ी को भी इस देश के विव्दानों के मार्गदर्शन में अपने कौशल को निखारने के लिए प्रेरित करेंगे।

यह भी पढ़े –

1.
2.
3.
4.
5.

हमारे अन्य ब्लॉग भी पढ़े –

Facebook     Twitter    Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *