“जन्माष्टमी ” श्रीकृष्ण जन्मोत्सव का त्यौहार| Janmashtami Festival Birth of Krishna in Hindi.

“जन्माष्टमी ” श्रीकृष्ण जन्मोत्सव का त्यौहार| Janmashtami Birth of Krishna in Hindi.

Indian Festival Janmashtami Birth of Krishna in Hindi.
“ जन्माष्टमी ” श्रीकृष्ण जन्मोत्सव का भारतीय त्यौहार| 


“जन्माष्टमी ” श्रीकृष्ण जन्मोत्सव का त्यौहार| Janmashtami Birth of Krishna in Hindi.
“जन्माष्टमी ” श्रीकृष्ण जन्मोत्सव का त्यौहार| Janmashtami Birth of Krishna

दोस्तों! हमारा आज का Article जन्माष्टमी के महापर्व के बारे में हैं| ऐसा माना जाता हैं कि भगवान विष्णु ने पृथ्वी पर बढ़ते हुए पाप को खत्म करने के लिए श्रीकृष्ण के रूप में जन्म लिया था| 

तो आइए जानते हैं उनका जन्म कब हुआ और क्यों मनाई जाती हैं जन्माष्टमी| और पढ़ते हैं “जन्माष्टमी ” श्रीकृष्ण जन्मोत्सव का त्यौहार| Janmashtami Birth of Krishna in Hindi. 

जन्माष्टमी का त्यौहार श्रीकृष्ण के जन्म दिवस के रूप में मनाया जाता हैं| यह भारत में मनाया जाने वाला बहुत ही प्रसिद्ध त्यौहार हैं| इसे केवल भारत में ही नहीं बल्कि विदेश में बैठे भारतीय और विदेशी लोग भी पूरे मान-सम्मान से मनाया जाता हैं| भाद्र माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को श्री कृष्ण ने मध्यरात्रि को कंश का वध करने के लिए जन्म लिया था| 

जन्माष्टमी मनाने का ऐतिहासिक वर्णन –

जन्माष्टमी का पर्व योगराज श्रीकृष्ण के जन्म देसी महीने की भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को मनाया जाता हैं| श्री कृष्ण मथुरा राज्य के सामंत वासुदेव और देवकी की आठवीं संतान थे| आकाशवाणी के अनुसार वासुदेव – देवकी की आठवीं संतान से कंश का वध होने था| 

इसलिए इस भविष्यवाड़ी को सच न होने के लिए कई प्रयास किये परन्तु वह प्रयास सफल नहीं हुए और श्रीकृष्ण का जन्म हो गया| कंश ने देवकी-वासुदेव के कृष्ण से पहले बाकी सात संतान को मार दिया था| जब उसे कृष्ण के जन्म के बारे में पता चला तो वह उनका भी अंत करने गए थे परन्तु वासुदेव ने तो श्री कृष्ण को गोकुल में नन्द बाबा और यशोदा मैया के पास छोड़ आ ये थे| 

इसलिए कंश जन्म के पश्चात श्री कृष्ण का वध करने असफल रहे| श्री कृष्ण का पालन-पोषण यशोदा माता और नन्द बाबा ने बड़े ही प्यार से और अपनी देख-रेख में रहा| इसलिए इनके जन्म के ख़ुशी में जन्माष्टमी का त्यौहार मनाया जाता हैं| 

जन्माष्टमी का त्योहार मनाने की विधि-  

हिन्दू धर्म को मानने वाले लोग इस दिन बड़े ही प्रेम और श्रद्धा के साथ व्रत रखते हैं| पूरे शहर के लोग अपने घर की बड़े ही अच्छे से साफ़ सफाई करते हैं और अपने घर के मंदिरों को भी सजाते हैं और गाँव में तो बहुत से लोग बड़े ही स्वादिष्ट पकवान अन्य मिठाइयां बनाते हैं और श्री कृष्ण को भोग लगाते हैं|

इस दिन मंदिरों मे सुबह से शाम तक पूजा पाठ  होती हैं और कई प्रकार की झाँकियाँ भी जन्माष्टमी के त्यौहार के दिन निकाली जाती हैं| इस दिन बहुत  से जगह श्री कृष्ण की चौकी बिठाई जाती हैं और उनका जन्म उत्सव मनाते हैं, वह इस प्रोग्राम में दही -हांडी  फोड़ने का भी कार्यक्रम करते हैं| 

दही-हांडी  फोड़ने का प्रोग्राम पूरे देश भर में जन्माष्टमी के दिन किया जाने सबसे ज्यादा विस्तृत हैं| व्रत  रखे हुए लोग इस दिन आधी रात को चंद्रमा के दर्शन करके अपने व्रत को पूरा करते हैं| 

जन्माष्टमी के दिन झांकियों का प्रदर्शन-

गाँव एवं शहरों में जन्माष्टमी के दिन कई जगहों पर झूलें और झांकियों का प्रदर्शन किया जाता हैं| इस दिन लगभग पूरा देश मंदिर में श्री कृष्ण के पूजा के लिए जाते है|इस दिन स्कूलों में कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है और श्री कृष्ण और राधा जी के प्रेम का नाटक किया जाता है| यह त्यौहार मथुरा में मनाया जाता है और यह वहां का सबसे लोकप्रिय त्यौहार हैं| 

इस प्रकार जन्माष्टमी का त्यौहार पूरे भारत में बड़े ही हर्षोल्लास से मनाया जाता है|

दोस्तों, ‘आपको हमारा यह आर्टिकलजन्माष्टमी ” श्रीकृष्ण जन्मोत्सव का त्यौहार| Janmashtami Birth of Krishna in Hindi. आपको कैसा लगा आप हमें कमेंट करके बताए और हमारे इस आर्टिकल को शेयर और लाइक करना ना भूले|

हमारा फेसबुक पेज- Achhibate 

Thanks For Reading
Sanjana

यह भी पढ़े –

1.
2.
3.
4.
5.

हमारे अन्य ब्लॉग भी पढ़े –

Facebook     Twitter    Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *