छठ पूजा की हार्दिक शुभकामनाएँ| Happy Chhath Puja Festival in Hindi.

छठ पूजा की हार्दिक शुभकामनाएँ| Happy Chhath Puja Festival in Hindi

Indian Festival Chhath Puja Festival in Hindi.
छठ पूजा की हार्दिक शुभकामनाएँ|


भारत में सभी त्यौहारों का अपना अलग ही महत्व हैं, ठीक वैसे ही भारत में एक त्यौहार बहुत ही महत्वपूर्ण होता हैं जिसे बिहार के लोग पूरी श्रद्धा और भाव के साथ मनाते हैं |जिसको हम सभी छठ पूजा के नाम से जानते हैं| 

बिहार का सबसे महत्वपूर्ण त्यौहार छठ पूजा ही होता हैं और लोगों की मान्यता हैं कि छठी मैया से जो कुछ भी माँगों माँ उनकी मनोकामना अवश्य पूरी करती हैं|

छठ पूजा का महापर्व अब देश के हर कोने में मनाया जाता हैं|छठ का पर्व ऎसा हैं जो चार दिन तक बहुत धूम धाम से मनाया जाता हैं, तो दोस्तों आज हम उन्हीं चार दिनों के बारे मे पढ़ते हैं-

छठ पूजा की हार्दिक शुभकामनाएँ| Happy Chhath Puja Festival in Hindi. 

छठ पूजा का पहला दिन-
छठ पूजा की शुरुआत कार्तिक शुक्ल चतुर्थी को नहाय खाय के साथ हो जाती हैं|
जो पुरुष या स्त्री इस महाव्रत को करते हैं, वो नहाय खाय के दिन नहा धोकर नए वस्त्र धारण करते हैं| इसके बाद शाकाहारी भोजन ग्रहण करते हैं, जब व्रत करने वाला मनुष्य भोजन ग्रहण करते लेते हैं|

उसके बाद ही घर के बाकी सदस्य भोजन ग्रहण करते हैं|छठ के पहले दिन इतना ही कार्य अच्छे मन से किया जाता हैं|

छठ पूजा का दूसरा दिन-

छठ पूजा के दूसरे दिन को खरना कहा जाता हैं, कार्तिक शुक्ल पंचमी के दिन व्रत रखा जाता हैं| इस दिन पूरे दिन का निर्जला व्रत रखा जाता हैं उसके बाद शाम होते ही व्रत करने वाले पुरुष या स्त्री इस दिन शाम के समय एक बार भोजन ग्रहण करते हैं|

खाने में चावल व गुड़ की खीर बनाई जाती हैं या फिर चावल का………… व घी लगी हुई रोटी लोगों को प्रसाद के तौर पर दिया जाता हैं और जिनके मन में छठ पूजा की महत्वता होती हैं वो लोग छठ पूजा के प्रसाद को खाना अपना सौभाग्य समझते हैं|

छठ पूजा का तीसरा दिन-

छठ पूजा का तीसरा दिन बहुत महत्वपूर्ण होता हैं| कार्तिक शुक्ल षष्ठी को छठ पूजा का सारा प्रसाद बनाया जाता हैं|इस दिन शाम के समय में सूर्य देव को पहला अर्घ्य दिया जाता हैं और सूर्य का ही एक रूप सविता हैं, सविता को भी इस दिन अर्घ्य दिया जाता हैं|

लोग अपनी मनोकामना को पूरी करने हेतु सूर्य देव और छठ माँ से विनती करते हैं और ऎसा भी माना जाता हैं कि छठ माँ से जो भी सच्चे दिल से माँगा जाता हैं, माँ उनकी मनोकामना जरूर पूरी करती हैं|

छठ पूजा का चौथा दिन-

छठ पूजा के चौथे दिन कार्तिक शुक्ल सप्तमी की सुबह उगते हुए सूरज को यानी उषा को अर्घ्य दिया जाता हैं, व्रती इस दिन फिर से इकट्टा होते हैं और जहां उन्होंने पहला अर्घ्य दिया था दूसरा अर्घ्य भी वही देना जरूरी होता हैं| व्रती पानी मे खड़े होकर सूर्य देव का निकलने का इन्तेजार    पूरी श्रद्धा के साथ करते हैं|

जैसे ही सूर्योदय होता हैं सभी छठी मैया का जयकारा लगाते हुए सूर्य देव को अर्घ्य देते हैं|

दोस्तों, ‘आपको हमारा यह आर्टिकल छठ पूजा की हार्दिक शुभकामनाएँ| Happy Chhath Puja Festival in Hindi.  आपको कैसा लगा आप हमें कमेंट करके बताए और हमारे इस आर्टिकल को शेयर और लाइक करना ना भूले|

हमारा फेसबुक पेज- Achhibate 

Thanks For Reading
Sanjana 

यह भी पढ़े –

1.
2.
3.
4.
5.

हमारे अन्य ब्लॉग भी पढ़े –

Facebook     Twitter    Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *