अन्तर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस की शुभकामनाएँ| World International Dance Day in Hindi.

अन्तर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ World International Dance Day in Hindi
अन्तर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ World International Dance Day in Hindi
अन्तर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ World International Dance Day in Hindi.

नृत्य एक ऐसी कला जो साक्षात देवों की देन हैं| इस कला को करने वाले को आनंद तो मिलता ही हैं, लेकिन इसके साथ-साथ इसे देखने वाले को भी बहुत आनंद आता हैं| दोस्तों, क्या आप जानते हैं कि नृत्य की इस कला को संपूर्ण विश्व में जानने के लिए प्रत्येक वर्ष 29 अप्रैल को अंतर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस के रूप में मनाया जाता हैं| इस दिवस का आयोजन यूनेस्को में 1982 में हुआ था| दोस्तों, हमारा आज का Article अंतराष्ट्रीय नृत्य दिवस पर हैं| तो आइए दोस्तों, अन्तर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस के बारे में विस्तार में जानते हैं-

अन्तर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस की शुरुआत कब हुई-

“जीन जॉर्ज नावेरे” जो कि एक महान “रिफॉर्मर” थे, उनके जन्म की स्मृति में यह दिवस अन्तर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस के रूप में मनाया जाता हैं| अंतर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस की शुरुआत “यूनेस्को” के अन्तर्राष्ट्रीय थिएटर इंस्टिट्यूट की अन्तर्राष्ट्रीय नृत्य ने “29 अप्रैल” की तारीख को हुई|  अंतर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस 29 अप्रैल, 1982 से लेकर अब तक पूरे देश में प्रत्येक वर्ष 29 अप्रैल को मनाया जाता हैं|

अन्तर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस मनाने का उद्देश्य-

अन्तर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस मनाने का अहम उद्देश्य यह हैं कि नृत्य को विश्व स्तर पर महत्व दिया जाए और इसके प्रति सभी जागरूक हो| नृत्य कला को विश्व स्तर पर दर्शाया जाए, यहीं इसका मुख्य उद्देश्य हैं|

भारत देश में होने वाली कुछ नृत्य कलाएँ-

हमारे संपूर्ण भारत देश में कई राज्य हैं, सभी राज्यों में नृत्य करने की अलग-अलग कलाओं को प्रधानता हैं| जैसे

देश             नृत्य का नाम

तमिलनाडु – भरतनाट्यम,

आंध्र प्रदेश – कुचिपुडी

उड़ीसा – ओडिसी

जयपुर, बनारस, राजगढ़ तथा लखनऊ – कत्थक केरल – कृष्णअष्टम, कथकली 

कर्नाटक – यक्षगान

बिहार – बिहू आदि नृत्य कलाएं भारत के अलग-अलग राज्यों में होती हैं|

नृत्य का असली मजा कब आता हैं-

नृत्य एक ऐसी चीज हैं, जिसका आनंद व्यक्ति को केवल नृत्य करने में ही नहीं बल्कि उस नृत्य को देखने में भी आता हैं| कला के क्षेत्र में यह एक विशिष्ट विधा हैं, जिसको पूरे विश्व भर में अंतर्राष्टीय नृत्य दिवस के रूप में मनाया जाता हैं| नृत्य करने से स्वास्थ्य में भी लाभ प्राप्त होता हैं| नृत्य करना शारीरिक और मानसिक रूप से अच्छा होता हैं|

नृत्यकार क्या कहते हैं, इसके बारे में-

हमारे भारत देश में नृत्य से सम्बन्धित प्रतिभाओं की नहीं हैं| हमारे देश में एक से एक नृत्य के कलाकार हैं| हमारे देश के युवाओं को केवल आत्मविश्वास और बस अपनों के सहारे की जरूरत होती हैं| अन्तर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस मनाने से प्रतिभाओं को आगे बढ़ने का प्रोत्साहन मिलेगा और युवा अपने हुनर को देश-विदेश भर में दर्शा पाएंगे|

नृत्य वेद की उत्पत्ति कैसे हुई थी-

त्रेतायुग में आज से 2000 वर्ष पहले देवों की विनती पर ब्रह्मदेव ने नृत्य वेद की तैयार किया, तब नृत्य वेद की उत्पत्ति हुई थी|  सामवेद, अथर्ववेद, यजुर्वेद व ऋग्वेद जैसी कई चीज इस नृत्य वेद में शामिल हैं|  जब नृत्य वीएस रचना पूरी हो गयी थी, तो उसके बाद नृत्य करने का अभ्यास भरत मुनि के सौ पुत्रों ने किया था|

दोस्तों, ‘आपको हमारा यह आर्टिकल अन्तर्राष्ट्रीय नृत्य दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ| World International Dance Day in Hindi. कैसा लगा आप हमें कमेंट करके बताए और हमारे इस आर्टिकल को शेयर और लाइक करना ना भूले|

Thanks For Reading
Sanjana

यह भी पढ़े –

हमारे अन्य ब्लॉग भी पढ़े –

Facebook     Twitter    Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *