विश्व जनसँख्या दिवस| world population day.

विश्व जनसँख्या दिवस पिछले 30 वर्षों से मनाया जा रहा हैं| यह प्रत्येक वर्ष 11 जुलाई को पूरे विश्व भर में मनाया जाता हैं| विश्व जनसँख्या दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य विश्व भर में बढ़ रही जनसँख्या के प्रति लोगों को जागरूक करना हैं| विश्व जनसंख्या दिवस के  दिन जनसँख्या के वृद्ध‍ि के विभिन्न पहलुओं पर प्रकाश डालने और लोगों को जागरूक करने के लिए कई तरह के कार्यक्रमों का भी आयोजन कि‍या जाता हैं| दोस्तों हमारा आज का आर्टिकल विश्व जनसँख्या दिवस पर ही हैं| तो आइए दोस्तों हमारे आज के इस आर्टिकल को पढ़ते हैं-

विश्व जनसँख्या दिवस की स्थापना कैसे हुई?
संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) ने 11 जुलाई 1989 को इस दिवस की शुरूआत की थी| तब पूरी दुनिया की जनसंख्या लगभग पांच अरब थी और अब पूरी दुनिया की जनसँख्या 7.8 अरब के पार हो चुकी हैं| इस बढ़ती जनसंख्या पर ध्यान में रखते हुए 11 जुलाई को विश्व जनसंख्या दिवस मनाने की घोषणा की गई| तब से लेकर अब तक इसे पूरे विश्व भर में वैश्विक स्तर पर मनाया जाता हैं|

विश्व जनसँख्या दिवस क्यों मनाया जाता हैं?
जनसँख्या को नियंत्रित करने के लिए लंबे समय से कोशिशें की जा रही हैं| विश्व जनसँख्या दिवस को मनाने का उद्देश्य यह हैं कि विश्व के प्रत्येक व्यक्ति बढ़ती जनसंख्या की ओर अवश्य ध्यान दे और जनसंख्या को कंट्रोल करने में अपना योगदान भी अवश्य करें| जनसंख्या वृद्धि विश्व के कई देशों के सामने बड़ी समस्या का रूप ले चुकी हैं|  खासकर विकासशील देशों में ‘जनसंख्या विस्फोट’ गहरी चिंता का विषय हैं|

जनसँख्या वृद्धि के कुछ  कारण-

1. शिक्षा की कमी होना जनसंख्या वृद्धि की एक सबसे बड़ा कारण हैं|

2. लड़के की चाह में रूढ़िवादी सोच और पुरुष-प्रधान समाज में लोग कई बच्चे पैदा कर लेते हैं|

3. मध्यमवर्गीय परिवार और शिक्षित लोगों की यह सोच होती हैं कि ‘अधिक बच्चे विशेष तौर पर लड़के यानी उनके बुढ़ापे का सहारा’ होते हैं|

4. आज भी हमारे देश में कई ऐसे पिछड़े इलाके व गांव हैं, जहां बाल विवाह की परंपरा प्रचलित है जिसके कारण कम उम्र से ही बच्चे पैदा होने शुरू हो जाते हैं, फलस्वरूप अधिक बच्चे पैदा होते हैं|

5. गरीबी भी जनसँख्या के बढ़ने की सबसे बड़ी वजह हैं|

जनसँख्या वृद्धि और अधिक बच्चे पैदा करने के नुकसान-

1. देश में बढ़ती बेरोजगारी का सबसे बड़ा कारण जनसंख्या में होने वाला इजाफा हैं| क्योंकि इससे स्कूल से लेकर नौकरी तक के सफर में युवाओं को हर कदम पर कॉम्पीटिशन का सामना करना पड़ता हैं|

2. नक्सलवाद जैसी समस्याओं का मूल कारण भी यही सामाजिक असमानता हैं, जो आगे जाकर लोगों में गरीबी-अमीरी के बीच फासले बढ़ाती हैं|

3. बढ़ती जनसंख्या की वजह से संसाधनों का सही से बंटवारा नहीं हो पाता हैं| जिससे देश की कई फीसदी आबादी को पीने के पानी, शुद्ध खाना और ऊर्जा के संसाधनो से महरुम रहना पड़ता हैं|

4.  बढ़ती जनसंख्या का सबसे ज्यादा असर जन्म लेने वाले बच्चों और उनके खान-पान पर पड़ता हैं| क्योंकि इससे बच्चों को पूरा पोषण नहीं मिल पाता हैं जिससे वो कुपोषण और कई अन्य गंभीर बीमारियों का शिकार हो जाते हैं|

5. देश में ज्यादा जनसंख्या बढ़ने से रोजगार न मिलने की वजह से युवा भटक जाते हैं और अपराध की दुनिया में कदम रख देते हैं| ऐसे में देश में बढ़ते अपराध के लिए बढ़ती जनसंख्या भी अहम भूमिका निभाती हैं|

6.यदि आबादी कम होगी तो विकास का लाभ सभी को बराबरी से मिल सकेगा। कहीं चोरी नहीं होगी और कोई बंदूक नहीं उठाएगा।

7. जनसंख्या अधिक होने से समाज की तरक्की धीमी होती है।

बढ़ती जनसँख्या को कैसे रोका जा सकता हैं-

1. युवाओं का 25-30 की उम्र से पहले विवाह न करें और 2 बच्चों के बीच कम से कम 5 साल का अंतर रखने की वजह समझाएं।

2. बढ़ती जनसंख्या को रोकने के लिए सरकार को युवाओं को शिक्षा की ओर बढ़ावा देना चाहिए|

3. जनसंख्या वृद्धि की रोकथाम के लिए इसे सामाजिक और धार्मिक स्तर पर जोड़ें|

 4. बढ़ती जनसंख्या को रोकने के लिए सरकार के अलावा परिवार और समाज को भी अहम भूमिका निभानी चाहिए यानि रूढ़िवादी सोच में बदलाव करना चाहिए|

5. इसके अलावा अगर कोई लड़की की जगह लड़के के जन्म पर जोर दे, तो ऐसे परिवार का बहिष्कार कर देना चाहिए|

6. अधिक बच्चे पैदा करने वालों का सामाजिक स्तर पर बहिष्कार करें, क्योंकि दूसरे भी यदि ज्यादा बच्चे पैदा करते हैं, तो इसका असर आपके बच्चों के भविष्य पर भी पड़ेगा| आपके बच्चों के लिए प्रतिस्पर्धा ज्यादा होगी और देश में बेरोजगार होने की आशंका बढ़ेगी|

7. बढ़ती जनसंख्या को रोकने के लिए सभी देशों को सख्ती से फैमिली प्लानिंग के नियमों का लोगों से पालन करवाना चाहिए| इसके लिए सख्त कानून का भी सहारा लिया जा सकता हैं|

8. घर-घर तक पहुंचकर लोगों को जनसंख्या रोकने के तरीके व विकल्प बताएं।

9.लोगों को बड़े स्तर पर परिवार नियोजन की जानकारी दी जाए|

10. इसके अलावा लोगों में शिक्षा के अभाव को खत्म करने के लिए अलग अलग योजनाओं की शुरुआत की जाए|

दोस्तों, ‘आपको हमारा यह आर्टिकल विश्व जनसँख्या दिवस| world population day. आप हमें कमेंट करके बताए और हमारे इस आर्टिकल को शेयर और लाइक करना ना भूले|

Thanks For Reading
Sanjana Singh


यह भी पढ़े- Latest News Articles

हमारे अन्य ब्लॉग भी पढ़े –

Facebook     Twitter    Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *