ई-पासपोर्ट क्या हैं और इससे क्या लाभ  होगा?

केंद्र सरकार ई-पासपोर्ट लाने के कार्य में लग गयी है| विदेशी मामलों का मंत्रालय जल्द ही चिप आधारित ई-पासपोर्ट को जारी करेगा| नेशनल इंफॉर्मेटिक्स सेंटर ने इसके लिए रिक्वेस्ट फॉर प्रपोजल (आरएफपी) जारी किया है| इसके जरिए सरकार एक ऐसी एजेंसी का चुनाव करना चाहती है, जो इन ई-पासपोर्ट के लिए आईटी इंफ्रास्ट्रक्चर और सॉल्यूशंस तैयार कर सके| इसका सॉफ्टवेयर आईआईटी कानपुर और नेशनल इंफॉर्मेटिक्स सेंटर (एनआईसी) ने मिलकर तैयार किया है| दोस्तों हमारा आज का आर्टिकल ई-पासपोर्ट से होने वाले लाभ और फीचर्स पर हैं| तो आइए दोस्तों हमारे आज के इस आर्टिकल को पढ़ते हैं-

ई-पासपोर्ट क्या होते है?

ई-पासपोर्ट एक ऐसे पासपोर्ट होते हैं, जिसके अंदर एक इलेक्ट्रॉनिक माइक्रोप्रोसेसर चिप लगी होती हैं|

यह पर्सनलाइज्ड होते हैं और इनको बुकलेट्स पर प्रिंट किया जाता हैं|

मुजरिमों के देश छोड़ने पर लगेगी रोक-

रक्षितों का मानना है कि कई दफा मुजरिम देश छोड़कर भागने में सफल हो जाते हैं| इसका मुख्य कारण यह है कि जब तक पुलिस मुजरिम को एयरपोर्ट पर बाहर जाने से रोकने की लम्बी कागजी कार्यवाही पूरी करती हैं, तब तक मुजरिम  देश से फरार हो चुके होते हैं|

उनका कहना है कि जब ई-पासपोर्ट आएंगे तो किसी मुजरिम को देश छोड़ने से रोकना एक बटन के जरिए पूरा हो जाएगा|

वे कहते हैं, “डार्क नेट पर ऐसे कई लोग हैं, जो फर्जी पेपर पासपोर्ट बेच रहे हैं| इसके लिए ई-पासपोर्ट एक अच्छा कदम है|”

ई-पासपोर्ट के कुछ मुख्य विशेषताएँ-

  1. इसने एक आयातकार एंटीना लगा होगा और यह चिप पोस्टेज स्टाम्प की तुलना में भी छोटा होगा|

  1. इस चिप में अन्तर्राष्ट्रीय यात्राओं और 30 विजिट्स की जानकारी स्टोर करने की क्षमता होगी|

  1. किसी भी कमर्शियल एजेंसी को इसमे इन्वोलव नहीं किया गया हैं|

  1. ई-पासपोर्ट कुछ ही सेकंड में आपकी पहचान प्रमाणित कर सकता हैं, जब आप किसी भीड़ भरे एयरपोर्ट पर खड़े हो और आपके पास समय की कमी हो|

  1. इस चिप में 64 किलोबाइट्स की मेमोरी स्पेस होगी|

ई-पासपोर्ट और सामान्य पासपोर्ट में क्या अन्तर हैं?

इनमें एक छोटा इंटीग्रेटेड सर्किट (चिप) लगा होता हैं|यह चिप पासपोर्ट के कवर या इसके पन्नों पर लगाई जाती हैं|

सिक्युरिटी मार्केट्स, ट्रांसपोर्ट, ऐरोस्पेस और डिफेंस के लिए इलेक्ट्रिकल सिस्टम बनाने वाले और सर्विसेस मुहैया कराने वाले थालिस ग्रुप के अनुसार, “इलेक्ट्रॉनिक पासपोर्ट या ई-पासपोर्ट पारपंरिक पासपोर्ट के समान ही होते हैं|

सेफ्टी फीचर्स के वैश्विक नियम फिलहाल नहीं बने हैं-

इंटरनेशनल सिविल एविएशन ऑर्गेनाइजेशन ने ई-पासपोर्ट पर लिखी जानकारियों को पढ़ने के लिए सर्वमान्य नियमों का उल्लेख कर दिया हैं| लेकिन अभी तक इसका कोई फॉर्मेट नहीं सामने आया है कि इसमें व्यक्तिगत जानकारियां कैसे स्टोर होंगी और ई-पासपोर्ट के सेफ्टी फीचर्स क्या हैं|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *