ईश्वर सबके जीवन की रक्षा खुद से नहीं कर पाते इसलिए धरती पर अपने रूप में डॉक्टर को भेज दिया

हमारे देश में डॉक्टरों को बहुत ही ऊँचा दर्जा दिया जाता हैं| भारत में प्रसिद्ध चिकित्सक डॉ. विधान चंद्र रॉय का जन्म 1july को हुआ था| उन्ही के सम्मान में “डॉक्टर दिवस” मनाया जाता हैं| देश के सभी अलग-अलग हिस्सों के अस्पतालों और क्लीनिकों में डॉक्टर दिवस पर लोग अपने डॉक्टरों और चिकित्सकों को श्रद्धांजलि देते हैं| 

वही अमेरिका में राष्ट्रीय डॉक्टर दिवस 30march को मनाया जाता हैं| इस दिन हमारे समाज के लोग डॉक्टरों के प्रति समर्पण,प्रतिबृद्ध और आभार व्यक्त करते हैं| 

 

 “बीमारी से  लड़ने की ताकत हमें डॉक्टर ही देते हैं”

 

डॉक्टर दिवस का महत्व(Importance of Doctor’s Day)

 

इस महत्वपूर्ण दिन को मनाने के बहुत सारे कारण हैं| सभी डॉक्टर मानव-जाति की सेवा करने के लिए और उन लोगों की जरूरतों को पूरा करने के साथ महान आदर्शों के साथ अपना पेशेवर जीवन शुरू करते हैं| 

हलाकि कुछ डॉक्टर इन विचारों की दृष्टि में खरे नहीं उतरते हैं और भ्रष्ट और अनैतिकता का रास्ता अपना लेते हैं| 

इस प्रकार डॉक्टर दिवस पर डॉक्टरों को अपने स्वयं के करियर पर एक बार उनको उनकी जिम्मेदारियों का एहसास दिलाया जाता हैं| जिससे वे उन लोगों की जरूरत के मुताबिक इलाज करने के एक नैतिक मार्ग पर खुद को दोबारा ला सके|

लगभग सभी को अपने जीवन में एक बार डॉक्टर के पास जाना ही पड़ता हैं,और हमारी दशा के अनुसार डॉक्टर हमें जो सलाह देते हैं| हम उस पर निर्भर होते हैं| 

“हमारी बिमारियों के समय डॉक्टर हमारे लिए भगवान के समान होते है”| 

जब कभी एक बार भी हम डॉक्टरों से एक भूल हो जाती हैं,तो लोग हमारा विरोध करते हैं,और हमारे सारे सही किये गए 90% काम को भूल जाते हैं| 

ऐसा हम इंसानों को बिलकुल भी नहीं करना चाहिए,जैसे सभी festival,jayanti को इतना महत्व दिया जाता हैं इसी तरह डॉक्टर दिवस को भी इतना ही सम्मान दे| 

सभी को डॉक्टर दिवस के दिन अपने डॉक्टर का सम्मान व उनके पेशे के प्रति अपने समर्पण भाव को निःसंकोच दर्शाना चाहिए| 

भारत में डॉक्टर और हैल्थकेयर कैसी हैं?

 

यहाँ हम आपको बताएंगे की हमारे देश में स्वास्थ्य सेवा उद्योग की स्थिति और हमारे देश के डॉक्टरों पर नजर डाली गयी हैं|

भारत में कई निजी अस्पताल खोले गये हैं लेकिन इन सभी को अच्छी तरह से प्रबंधित नहीं किया जा रहा हैं| यहाँ हर कोई पैसे कमाना चाहता हैं| यहाँ कोई भी किसी के अमूल्य जीवन की क़द्र नहीं करता हैं| हमें सभी के जीवन की कद्र करनी चाहिए, चाहे वो अमीर हो या गरीब और चंद पैसों के लिए अपने पास आए रोगियों का नुकसान नहीं करना चाहिए| 

सरकारी अस्पतालों में कार्यरत कर्मचारी भी रोगियों को ठीक से सेवा देने के लिए प्रतिबद्ध नहीं हैं|ऐसे कई मामले  देखने को मिले हैं जहाँ रिपोर्ट गलत साबित हो जाती हैं और रोगियों को समय पर दवाई नहीं मिल पाती हैं|इसके अलावा जब अस्पताल में दवाएं और चिकित्सा उपकरणों की आपूर्ति की बात आती हैं तो कुप्रबंधन देखने को मिलता हैं|

इसलिए सभी अस्पतालों में नर्स व डॉक्टर की मदद करने के लिए सहकारी को समय रहते रहना चाहिए|

जिससे डॉक्टर अपना सारा फोकस मरीज पर ही लगा सके और मरीज जल्दी से ठीक हो जाए| 

क्या हम डॉक्टर पर विश्वास कर सकते हैं?

जैसा कि आप सभी जानते हैं निजी अस्पतालों और नर्सिंग होम को व्यवसाय करने के उद्देश्य से स्थापित किया जा रहा हैं न कि जनता की सेवा के इरादे से|

बार-बार धोखाधड़ी के कई मामलों के माध्यम से यह साबित हो गया हैं|

विश्वास के पहलू के कारण भारत में लोग इन दिनों डॉक्टरों से इलाज कराने में बहुत ही संकोच करते हैं|

इसलिए बहुत से लोग आमतौर पर सर्दी,फ्लू और बुखार के लिए घर पर ही दवा लेना पसंद करते हैं|

हलाकि कई व्यक्ति सामान्य सर्दी और हल्के बुखार के लिए डॉक्टर से न मिले तो चलता हैं पर अगर स्थिति बिगड़ जाती हैं तो अनदेखा नहीं करना चाहिए|

डॉक्टर अपना काम पूरी ईमानदारी के साथ करते हैं,इसलिए हमें उनपर विश्वास करना चाहिए क्योंकि इसके अलावा हमारे पास कोई और दूसरा उपाय भी नहीं होता हैं|

दुनिया में अगर आप भगवान पर विश्वास कर सकते हैं,तो डॉक्टरों पर भी आपको विश्वास करना चाहिए,क्योंकि हमारी बीमारी के वक्त डॉक्टर ही हमारे लिए भगवान के समान होते हैं और वही हमें बचा सकते हैं सबकुछ उनके ही हाथ में होता हैं|

 

 “जीवन  से प्यार करना एक डॉक्टर ही हमें सीखा देते हैं”

यह भी पढ़े –

1.
2.
3.
4.
5.

हमारे अन्य ब्लॉग भी पढ़े –

Facebook     Twitter    Instagram

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *